पांडेयजी तो बोलेंगे

क्या 13 जुलाई से आगे बढ़ेगा लॉक डाउन? जानिए लॉक डाउन से जुड़ी बड़ी खबर की सच्चाई

सहारनपुर/ उत्तर प्रदेश. कोरोना वॉयरस के बढ़ते प्रभाव और संचारी रोगों पर रोकथाम के मकसद से प्रदेश सरकार ने 55 घण्टे का लॉक डाउन की घोषणा कर दी जो 10 जुलाई की रात10 बजे से शुरू हो चुका है और 13 जुलाई को सुबह 5 बजे तक चलने वाला है.
सख्ती के बीच लॉक डाउन का पालन करवाया जा रहा था कि अचानक एक मैसेज वायरल हुआ. कॉपी पेस्ट का लंबा खेल सोशल मीडिया पर पूरे दिन चला. मैसेज के व्हाट्सएप जैसे प्लेटफार्म पर तैरते ही आमजन में लॉक डाउन को लेकर बेचैनी देखी गयी. लोग अपने परिचितों से पत्रकारों से लॉक डाउन बढ़ने को लेकर सवाल कर रहे थे.

मुख्यमंत्री कार्यालय के इस मैसेज से लगे लॉक डाउन के कयास

सोशल मीडिया पर लॉक डाउन के बढ़ाये जाने की खबरों के पीछे और खबर के समर्थन में मुख्यमंत्री कार्यालय के मैसेज का हवाला दिया जा रहा था.
दरअसल मुख्यमंत्री कार्यालय के ट्विटर हैंडल से दिन में एक ट्वीट किया गया और कहा गया कि
” यह अभियान 13 जुलाई2020 के साथ साथ आवश्यकतानुसार आगे भी जारी रखा जाएगा इससे covid-19 तथा संचारी रोगों के संक्रमण को नियंत्रित करने में सफलता मिलेगी.”

सीएम कार्यालय के इस मैसेज के बाद ही लॉक डाउन बढ़ाने की खबरें वायरल हुई.
खबर की हैडिंग भी यही थी, ” lockdown बढ़ाने को लेकर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने दिए संकेत”. 7 दिन से लेकर 14 दिन के लॉक डाउन का दावा सोशल मीडिया पर मिला. लेकिन सही मायनों में मुख्यमंत्री कार्यालय से इस तरह का कोई आदेश नही है.

तो सच्चाई क्या है

मुख्यमंत्री कार्यालय के इस मैसेज के पीछे प्रदेश में सरकार द्वारा चलाई जा रही संचारी रोगों पर नियंत्रण की कवायद है. प्रदेश सरकार ने संचारी रोगों पर रोक लगाने और उससे बचाव के लिए प्रदेश भर में अभियान छेड़ा हुआ है जिसमे साफ सफाई, रोगों के बारे में जानकारी और उनसे बचने के तरीकों को बताया जा रहा है.
सरकार ने इसी अभियान को आगे जारी रखने का निर्णय लिया है न कि लॉक डाउन को बढ़ाने का.
ट्वीट को पढ़ने पर कही भी लॉक डाउन को बढ़ाने के संकेत नही मिलते हैं.
10 जुलाई रात 10 बजे से शुरु हुआ लॉक डाउन 13 जुलाई सुबह 5 बजे समाप्त होगा. इसलिए निश्चिंत रहें, घर पर रहें, सरकार के द्वारा जारी निर्देश का पालन करें.

About the author

Prakash Pandey

Add Comment

Click here to post a comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Follow us @ social media

Follow us @ Facebook

विविध