COVID-19 Live Update

Global Total
Last update on:
Cases

Deaths

Recovered

Active

Cases Today

Deaths Today

Critical

Affected Countries

Total in India
Last update on:
Cases

Deaths

Recovered

Active

Cases Today

Deaths Today

Critical

Cases Per Million

ट्रेंडिंग न्यूज़

Viral: कोरोना का तो पता नही भूख से मर जायेंगे, मासूम बच्चों का छलका दर्द

New Delhi. कोरोना के कहर से विदेश से लेकर देश में भी लोग कांप रहे हैं. सरकारों को भी इलाज ना मिलने के कारण कोई रास्ता सूझ नहीं रहा है. लॉक डाउन कोरोना से बचने का एकमात्र उपाय है जिसको सरकार सख्ती से लागू भी कर रही है. प्रशासन से लेकर शासन तक ने अपनी पूरी ताकत लॉक डाउन को सफल बनाने में लगा दिया है. लॉक डाउन सफल भी दिखाई दे रहा है लेकिन लॉक डाउन का घर सबसे ज्यादा प्रभाव किसी पर पड़ा है तो वह दिहाड़ी मजदूर हैं. दिहाड़ी मजदूरों के सामने अब रोजी रोटी का संकट खड़ा हो गया है. हालांकि सरकार ने दिहाड़ी मजदूरों को राशन और कुछ धन मुहैया कराने का आश्वासन दिया है लेकिन ऐसे भी लोग हैं जिनके पास ना तो राशन कार्ड है और ना ही पहचान पत्र है. ऐसी स्थिति में ऐसे लोगों के सामने बड़ी समस्या खड़ी हो गई है
देश की राजधानी दिल्ली से झुग्गी झोपड़ी में रहने वाले मजदूरों का दर्द सामने आया है. ट्विटर पर एक वीडियो शेयर किया गया है जिसे राजधानी दिल्ली का बताया जा रहा है. वीडियो में कुछ बच्चे हाथ जोड़कर खाना मांग रहे हैं. बच्चे बता रहे हैं कि तकरीबन तीन चार दिन से भूखे हैं और उनके पास खाने के लिए अब कुछ नहीं बचा है. यह वीडियो फतेहपुर बेरी के चंदन होला इलाके की बताई जा रही है जहां झुग्गी झोपड़ी में तकरीबन डेढ़ सौ मजदूर परिवार रहते हैं.
जब कुछ लोगों ने इन बच्चों से बात की तो बच्चे रोने लगे और अपनी पीड़ा बताते हुए बोले कि पापा जब कुछ लेने के लिए बाजार जाते हैं तो पुलिस उनको मार कर घर वापस भेज देती है ऐसे में तीन-चार दिन से खाली पेट है. बच्चों के साथ कुछ महिलाएं दिखाई दे रही हैं जो कह रही हैं की कोरोना का तो पता नहीं लेकिन कुछ खाने को नहीं मिला तो भूख से जरूर मर जाएंगे. कोरोना ने जन जीवन दूभर कर दिया है. बताया जा रहा है कि एक एनजीओ ने इनसे संपर्क किया है. राशन कार्ड और पहचान पत्र ना होने की वजह से इन परिवारों को सरकार की किसी योजना का कोई लाभ नहीं मिल पा रहा है. ऐसे में सामाजिक संस्था के लोगों ने स्थानीय पार्षद, विधायक और सांसद से इन गरीब परिवारों को खाना उपलब्ध कराने की अपील की है.