विविध

दिल्ली में किसानों की हिंसा, हालात काबू करने के लिए बुलाया गएअर्द्ध सैनिक बल के जवान, आगे क्या होगा

गणतंत्र दिवस के अवसर पर दिल्ली में किसानों की रैली के बाद हिंसा को लेकर माहौल गरमाया हुआ है. जगह-जगह किसानों ने ट्रैक्टर रैली के दौरान पुलिस के जवानों को टारगेट किया. कई स्थानों पर पुलिस के जवानों को घेरकर पीटा गया. हालात को बेकाबू होते देख गृह मंत्रालय ने आपातकाल बैठक बुलाई जिसके बाद केंद्र ने दिल्ली में शांति व्यवस्था को बनाए रखने के लिए अर्धसैनिक बलों की 15 कंपनी को बुलाने का निर्णय लिया.

दिल्ली में 3 नए कृषि कानूनों के खिलाफ किसानों को सशर्त ट्रैक्टर रैली की इजाजत मिली थी लेकिन कई जगहों पर किसानों ने बैरिकेड तोड़ दिया और पुलिस के साथ झड़प की. पूरे मामले पर देश के गृह मंत्री अमित शाह ने आपातकालीन बैठक बुलाई और अधिकारियों से जानकारी ली. स्थिति को कंट्रोल करने के लिए अर्ध सैनिक बलों को बुलाने का निर्णय लिया गया.

रिपोर्ट के मुताबिक किसान बैरिकेट्स तोड़ते हुए लाल किले तक पहुंच गए जहां उन्होंने उत्पात मचाया. जल्द ही दिल्ली पुलिस के जवानों ने रैपिड एक्शन फोर्स के साथ मिलकर लाल किले को पूरी तरीके से खाली कराया. हालांकि लाल किले के आसपास कुछ किसान बचे हुए हैं. ध्वजारोहण परिसर से किसानों को पूरी तरह से हटा दिया गया है. वही इंडिया गेट का पूरा इलाका सील कर दिया गया है. युधिष्ठिर से सीलमपुर तक दिल्ली ट्रैफिक की आवाजाही बंद है. गीता कॉलोनी और सिग्नेचर ब्रिज के ट्रैफिक को डायवर्ट किया गया है .

ट्विटर पर ट्रेंड कर रहा दिल्ली_ पुलिस_ लठ_ बजाओ

किसानों की हिंसक गतिविधि को देखते हुए देश के लोगों में नाराजगी है. सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म ट्विटर पर # के साथ दिल्ली_ पुलिस_ लटबजाओ ट्रेंड कर रहा है. यूजर्स वीडियो शेयर कर कह रहे हैं कि यह प्रदर्शनकारी नहीं बल्कि हिंसक लोग हैं. यूजर अपनी बात को सिद्ध करने के लिए ट्रैक्टर परेड में हिंसा का वीडियो शेयर कर इसका सबूत भी दे रहे हैं.

इस बीच दिल्ली के कई इलाकों में रात 12:00 बजे तक इंटरनेट सेवाओं को बंद कर दिया गया. हालात बेहद तनावपूर्ण बन गए हैं. दिल्ली पुलिस लगातार लोगों से कानून व्यवस्था को ठीक रखने में मदद करने की अपील कर रही है.

About the author

Prakash Pandey

Add Comment

Click here to post a comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Follow us @ social media

Follow us @ Facebook

विविध