पांडेयजी तो बोलेंगे

Video : सुनो विधायक जी, सुन रहे हो मंत्री जी: अब बात ‘लठ’ और ‘​छितने’ तक पहुंची, देखिए विधायक को जनता ने खूब खरी खोटी सुनाई

सुनो विधायक जी, सुन रहे हो मंत्री जी: अब बात ‘लठ’ और ‘​छिदने’ तक पहुंची

कोरोना के दौराना चुने जनप्रतिनिधियों से नाराज है उत्तराखंड की जनता

दो सप्ताह के भीतर विस अध्यक्ष, कैबिनेट मंत्री और विधायक का विरोध

अब बात हंगामा, नारेबाजी तक कहीं आगे निकली, लठ और छिदने तक पहुंची

नवीन पाण्डेय

जनता के हाथ—पांव जोड़कर कुर्सी पर काबिज होने वाले विधायक, मंत्री और सांसदों के लिए बुरी खबर है। अब तक तो नारेबाजी और हंगामा करके जनता अपने गुस्से का इजहार कर रही थी लेकिन अब बात सीधे ‘लठ’ तक पहुंच गई है। जनता—जर्नादन का गुस्सा मंत्री जी, विधायक जी को लेकर सातवें आसमान पर है। हो भी क्यों नहीं। जो ‘छलावा’ आपने उनके साथ इस ‘दम तोड़ती सांसों’ के दौरान किया उसे जनता अब आसानी से भूलने वाली नहीं है। चंद महीनों में ही ‘विधायक जी’ आपकी ‘परीक्षा’ भी है। आखिर जनता के दरबार में फिर आपको हाथ जोड़कर वोट के लिए जाना ही होगा, फिर इस वक्त को अभी से याद कर लीजिए क्योंकि हंगामा और नारेबाजी से दूर अब जनता ‘लठ’ और ‘छिदाई’ तक पहुंच गई है। जो आज हरिद्वार जनपद के झबरेड़ा विधानसभा में विधायक के साथ हुआ, वह दूर तलक का संदेश देती है। देखते रहिए अभी आगे—आगे होता है क्या। मोदी—अमित शाह की जोड़ी के जरिए आप विधायक बन गए।​ विधायक ही क्यों मंत्री बन गए और कई लोग सांसद भी, लेकिन अब ये जादू नहीं चलने वाला।

उत्तराखंड की जनता विगत दो सप्ताह से रिएक्ट कर रही है। विशेषकर उन विधायक और मंत्रियों को लेकर जिन्होंने जनता से कोरोना काल में दूरी बना ली है। सोचिए संवैधानिक पद पर बैठे विधानसभा अध्यक्ष और विधायक प्रेम चन्द्र अग्रवाल तक को कुछ दिन पहले ही जनता के गुस्से का कोपभाजन बनना पड़ा। वो, इसलिए कि उन्हें टीकाकरण केन्द्र में आने में विलंब हो गया और जनता इंतजार करती रही। जब वे पहुंचे तो लोगों का गुस्सा फूट पड़ा। याद कीजिएगा यही जनता आपको सुनने के लिए घंटों इंतजार करती थी पर अब नहीं। शुरूआत जनता के गुस्से का किसी बड़े नेता को लेकर यहीं से उत्तराखंड में हुई।

फिर अभी दो दिन पहले ही कैबिनेटन मंत्री बंशीधर भगत एक अस्पताल में जाकर हुकूम झाड़ने लगे, डाक्टर ने साफ कह दिया वो अपराधी नहीं है। बात करनी है तो वह कुर्सी पर बैठ कर करेंगे। अब रही सही कसर, झबरेडा के विधायक देशराज कर्णवाल पर उन्हीं के विधानसभा में उन पर गांव वालों का निकला। यहां पर तो स्थिति हंगामा और नारेबाजी से आगे ‘लठ’ तक पहुंच गई। जाहिर है ​प्रदेश में अपने चुने हुए जनप्रतिनिधियों को लेकर जनता का गुस्सा मुखर होने लगा है। उनकी नाराजगी इस कोरोना कॉल में साथ छोड़ देने से हैे। जिस वक्त ‘उखड़ती सांसों को थामने’ के लिए उनके सहारे की जरूरत थी, उसी वक्त अधिकांश विधायक, मंत्री और सांसदों ने किनारा कर लिया।

झबरेड़ा विधायक देशराज पर यूं बरसी जनता

हरिद्वार जनपद के झबरेड़ा विधानसभा के बीजेपी के विधायक देशराज जब क्षेत्र के अस्पताल पहुंचे तो जनता का गुस्सा फूट पड़ा। कुछ यूं कहा जनता ने, विधायक जी ‘मेरी बात सुनो’, आपके पद का सम्मान है और जिस दिन आप पद से हट जाओगे और दोबारा वोट मांगने आओगे तो गैलरी में ‘लठ’ रखा है ध्यान रखियो इस बात को। आपके पद की गरिमा है नहीं तो कुछ नहीं है। वरना ‘छिदने’ लायक आदमी हो, आपने कोई काम यहां नहीं किया। कोई काम तुमने नहीं किया।

About the author

Prakash Pandey

Add Comment

Click here to post a comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Follow us @ social media

Follow us @ Facebook

विविध