सिनेमा खास

मां से मिलने अंतिम यात्रा पर इरफान, मां की अंतिम इच्छा पूरी न कर सके बॉलीवुड के अभिनेता, देश कर रहा नमन

मुंबई. 54 वर्ष की उम्र में दुनिया को अलविदा करके जाने वाले इरफान खान अपनी मां की अंतिम इच्छा पूरी नहीं कर सके. मां चाहती थीं इरफान बिल्कुल स्वस्थ हो जाएं.
शनिवार को पहले रमजान के दिन इरफान खान की मां सईदा बेग़म 95 वर्ष की उम्र में दुनिया को अलविदा करके चली गई. उनकी इच्छा थी कि इरफान जल्द से जल्द स्वस्थ होकर घर लौटे लेकिन ऐसा हो न सका. बॉलीवुड के यह अभिनेता जिंदगी की जंग हार गए.
पदम श्री के सम्मान से सम्मानित दिग्गज अभिनेता इरफान खान ने कोकिलाबेन अस्पताल में अंतिम सांस ली. इरफान की मां सईदा बेगम का जयपुर में शनिवार को इंतकाल हो गया था. लेकिन लॉक डाउन के चलते इरफान मां से मिलने नहीं जा सके. इरफान खान के भाई सलमान ने बताया की मां अंतिम सांस तक अपने लाडले की सलामती की दुआएं मांगती रही.
बता दें कि मंगलवार की इरफ़ानअचानक कमजोरी की शिकायत ही से बाथरूम में गिर गए. इसके बाद उन्हें कोकिलाबेन अस्पताल में आईसीयू में भर्ती कराया गया था. फिल्म निर्देशक सुजीत सरकार ने आज ट्विटर के जरिए इरफान के निधन की खबर साझा की. उन्होंने ट्वीट कर लिखा

“मेरा प्यारा दोस्त इरफान. तुम लड़े और लड़े और लड़े. मुझे तुम पर हमेशा गर्व रहेगा. हम दोबारा मिलेंगे सूतापा और बाबील को मेरी संवेदनाएं. तुमने भी लड़ाई लड़ी. सूतापा इस लड़ाई में जो तुम दे सकती थी तुमने सब दिया. ओम शांति. इरफान खान को सलाम.”

बॉलीवुड के पान सिंह तोमर 2 साल पहले बीमारी से ग्रसित हो गए थे

मार्च 2018 में इरफान को बीमारी का पता चला जिसको उन्होंने फैंस के साथ साझा किया. उन्होंने ट्वीट किया और लिखा

“जिंदगी में अचानक कुछ ऐसा हो जाता है जो आप को आगे लेकर जाता है. मेरी जिंदगी के पिछले कुछ दिन ऐसे ही रहे हैं. मुझे न्यूरो एंडोक्राइन ट्यूमर नामक बीमारी हुई है. लेकिन मेरे आसपास मौजूद लोगों के प्यार और ताकत ने मुझ में उम्मीद जगाई है.”

लंदन में 1 साल इलाज कराने के बाद अप्रैल 2019 में भारत लौटे थे. उनकी हाल की फिल्म अंग्रेजी मीडियम ने खासी सुर्खियां बटोरी थीं.

इरफान की बॉलीवुड के सफर की चुनिंदा फिल्में

इरफान ने बॉलीवुड में कई फिल्में अपने किरदार से जीवंत की. इसके चलते इरफान को कई सम्मान भी मिले. मकबूल, लाइफ इन अ मेट्रो, द लंचबॉक्स, तलवार, पीकू और हिंदी मीडियम के साथ-साथ अंग्रेजी मीडियम जैसी शानदार फिल्में उन्होंने अपने किरदार के चलते जीवंत कर दी. इरफान ने नकारात्मक रोल भी निभाए जिसमें उन्हें लाइफ इन अ मेट्रो के लिए बेस्ट एक्टर, पान सिंह तोमर के लिए बेस्ट एक्टर क्रिटिक और हिंदी मीडियम के लिए बेस्ट एक्टर फिल्मफेयर अवार्ड मिला. बॉलीवुड के पान सिंह तोमर को देश के चौथा सबसे बड़ा सम्मान पदम श्री अवार्ड मिला.

About the author

Prakash Pandey

Add Comment

Click here to post a comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Follow us @ social media

Follow us @ Facebook

विविध