Tag - #shadabjafarshadab

न्यूज़

पत्रकार ने की प्रशासन से अपील,बोले नजीबाबाद कल्लू गंज स्थित सब्जी मार्किट शहर के बीच से हटाई जाये ….

Nazibabad/ Uttar Pradesh. नगर के इलैक्ट्रॉनिक्स व प्रिंट मीडिया से जुड़े वैब लेखक व शायर शादाब जफर शादाब ने जिलाधिकारी बिजनौर से अपील की है कि नजीबाबाद कल्लू...

माटी के रंग

कोरोना हो भी सकता है……

कोरोना हो भी सकता है…… तू अपने घर से गर निकाला कोरोना हो भी सकता है. अगर तू अब भी ना संभला कोरोना हो भी सकता है. रहेगा भीड़ से बचकर ज़रा भी कुछ नहीं होगा...

माटी के रंग

हसरत है मेरी चांद को बदली में देख लू… जुल्फें ज़रा सी चेहरे पे बिखराईये हुज़ूर

बज्म ए अदब कोटद्वार की ओर से मुशायरे मैं अदबी ख़िदमात के लिए शायरों को शॉल ओढ़ाकर सम्मानित किया गया…. उस्ताद शायर महेन्द्र अश्क व शादाब जफर शादाब, तैय्यब...

माटी के रंग

ये कुर्सी हैं बदलने मैं ज़रा सी देर लगती है…..

बज्म ए जिगर की ओर से मुशायरे व सम्मान समारोह आयोजित, मेहमान शायरों ने प्रोग्राम में लगाये चार चांद देहरादून से अम्बर खरबंदा, इनआम रमज़ी व असलम खतौलवी जिगर...

माटी के रंग

बशीर बद्र जन्मदिन विशेष: उजाले अपनी यादों के हमारे साथ रहने दो, न जाने किस गली में जिंदगी की शाम हो जाए…..

15 फरवरी यौम ए पैदाईश पर खास……एहसास के शायर बशीर बद्र .. उनकी ख़ामोशियों में भी जैसे आज ग़ज़ल गुनगुनाती है.. आज के दौर का सबसे बड़ा शायर आज बीमारी के सबब मजबूर...

Follow us @ social media

Follow us @ Facebook

विविध