बोल वचन खास

5G को लेकर फ़र्ज़ी अफवाह फैलाने वालों पर पुलिस का फंदा, जारी हुए आदेश, पुलिस ने बिछाया जाल

लखनऊ. 5G को लेकर लोगों में भ्रम की स्थिति पैदा करने वालों के खिलाफ पुलिस ने एक्शन प्लान किया है. उत्तर प्रदेश के अपर पुलिस महानिदेशक कानून-व्यवस्था प्रशांत कुमार ने इस बाबत सभी पुलिस आयुक्तों, पुलिस उपमहानिरीक्षक और जिला पुलिस प्रमुखों को पत्र भेजा है. पत्र में मोबाइल की 5G टेस्टिंग और कोरोनावायरस महामारी के बीच आपसी संबंध को लेकर अफवाह फैलाने वालों पर कार्रवाई के लिए कहा गया है. साथ ही यह भी बताया गया है की 5जी टेस्टिंग और कोरोनावायरस को आपस में जोड़ कर आमजनमानस को कुछ लोग गुमराह करने में लगे हैं. ऐसे लोगों पर सख्त कार्रवाई करने की जरूरत है.

दरअसल, 5G टेस्टिंग को लेकर सोशल मीडिया पर तेजी से अफवाह फैलाई जा रही है. अफवाह में यूपी के कुछ हिस्सों में 5G टेस्टिंग से रेडिएशन होने की बात कही जा रही है जिसकी वजह से राज्य में कोरोना संक्रमण के मामलों में तेजी आ रही है और लोगों की मौत हो रही है. इस पर पुलिस ने अब सख्ती बरतने का प्लान कर लिया है. खुफिया विभाग लेकर पुलिस के अधिकारियों को राज्य के अपर पुलिस महानिदेशक प्रशांत कुमार ने शनिवार को पत्र लिखकर कार्रवाई करने के लिए कहा है.

फर्जी ऑडियो भी खूब हो रहा है वायरल

पत्र में अपर पुलिस महानिदेशक कानून एवं व्यवस्था प्रशांत कुमार ने कहा कि सोशल मीडिया पर प्रसारित एक पोस्ट में इटली में कोविड-19 से मरे व्यक्तियों की पोस्टमार्टम रिपोर्ट में रेडिएशन से मृत्यु होने की बात फैलाई जा रही है. इसके अलावा वाराणसी के एक युवक की बिहार के किसी युवक से बातचीत का ऑडियो भी वायरल हो रहा है. उस ऑडियो में 5G टावर की टेस्टिंग के कारण कोरोना संक्रमण बढ़ने और लोगों के मरने की बात कही जा रही है.

एडीजी ने कहा कि फतेहपुर, सिद्धार्थनगर, गोरखपुर और सुल्तानपुर के कुछ गांव में कथित रूप से ग्रामीणों द्वारा 5 जी टावर को बंद कराने और उखाड़ फेंकने की धमकी भी प्रसारित हो रही है. उन्होंने पुलिस अधिकारियों को इन अफवाहों पर लगाम लगाने के लिए निर्देश देते हुए खुफिया तंत्र को सक्रिय कर रखने के लिए कहा है.

तुरंत करें कार्रवाई

प्रशांत कुमार ने अधिकारियों को कहा है कि छोटी से छोटी सूचना पर तत्काल प्रभाव से कार्रवाई की जाए. इसके साथ ही अफवाहों पर हर स्तर पर खंडन करने के लिए भी एडीजी ने कहा है. इस संबंध में आने वाली महत्वपूर्ण सूचना संबंधित लोगों को तुरंत अवगत कराकर जरूरी कानूनी कार्रवाई के निर्देश भी अपर पुलिस महानिदेशक ने दिए हैं.

जान लेना जरूरी है कि पिछले कुछ दिनों से सोशल मीडिया पर कोरोना से जुड़ी कई पोस्ट तैर रही है जिसमें उत्तर प्रदेश में कोरोना के मामलों में अचानक हुई बढ़ोतरी के लिए 5G टेस्टिंग को जिम्मेदार ठहराया जा रहा है. प्रशासन की चिंता यह है कि इस तरह के अफवाह से लोगों में मोबाइल टावर के खिलाफ माहौल बन रहा है.

About the author

Prakash Pandey

Add Comment

Click here to post a comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Follow us @ social media

Follow us @ Facebook

विविध