COVID-19 Live Update

Global Total
Last update on:
Cases

Deaths

Recovered

Active

Cases Today

Deaths Today

Critical

Affected Countries

Total in India
Last update on:
Cases

Deaths

Recovered

Active

Cases Today

Deaths Today

Critical

Cases Per Million

टॉप न्यूज़

अलविदा वशिष्ठ: गणित पढ़ाने वाले शिक्षक को भी गलत पर टोकने और महान वैज्ञानिक आइंस्टीन को चैलेंज करने वाले भारतीय गणितज्ञ वशिष्ठ नारायण का निधन, जान लीजिए महान व्यक्तित्व को

पटना : शिक्षा और उससे संबंधित खोजजगत में आज बड़ी हानि हुई. भारत के महान गणितज्ञ वशिष्ठ नारायण सिंह आज संसार को अलविदा कर गये. वह तकरीबन 40 साल से सिजोफ्रेनिया से पीड़ित थे. उनके निधन की ख़बर सुनते ही शिक्षा जगत में शोक फैल गया. देश ने उनके निधन पर अपनी श्रद्धांजलि दी और अपनी कृतज्ञता प्रकट की. बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने सिंह के निधन को बड़ी और अपूर्णीय क्षति बताया.
दरअसल, वशिष्ठ नारायण सिंह उस समय चर्चा में आये जब उन्होंने आइंस्टीन के सापेक्ष सिद्धांत को चुनौती दे डाली. बताया जा रहा है कि आज अहले सुबह उनके मुंह से खून निकलने लगा. इसके बाद परिजन उन्हें लेकर तत्काल पीएमसीएच गये, जहां डॉक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया.
पटना के कुल्हड़िया कांपलेक्स में रहने वाले बिहार के नायाब रत्न महान गणितज्ञ वशिष्ठ नारायण सिंह गुमनामी का जीवन बिता रहे थे. प्राप्त जानकारी के अनुसार, पिछले माह ही उनकी तबीयत खराब होने पर उनके छोटे भाई ने पीएमसीएच के आईसीयू वार्ड में भर्ती कराया था. उनके शरीर में सोडियम की मात्रा काफी कम हो जाने के बाद उन्हें पीएमसीएच में भर्ती कराया था. हालांकि, सोडियम चढ़ाये जाने के बाद वह बातचीत करने लगे थे और ठीक होने पर उन्हें वापस घर ले आये थे.

अंतिम समय में कॉपी, किताब ही दोस्त रहे

आर्मी से सेवानिवृत्त वशिष्ठ नारायण सिंह के भाई अयोध्या सिंह के मुताबिक, राजधानी पटना के एक अपार्टमेंट में गुमनामी का जीवन बिता रहे महान गणितज्ञ का अंतिम समय तक सबसे अच्छा दोस्त किताब, कॉपी और पेंसिल ही बना रहा.

ऐसा रहा वशिष्ठ नारायण सिंह का प्रोफ़ाइल

आंइस्टीन के सापेक्ष सिद्धांत को चुनौती देनेवाले गणितज्ञ वशिष्ठ नारायण सिंह अपने शैक्षणिक जीवनकाल में भी कुशाग्र रहे हैं. पटना साइंस कॉलेज से पढ़ाई करनेवाले वशिष्ठ गलत पढ़ाने पर गणित के अध्यापक को बीच में ही टोक दिया करते थे. घटना की सूचना मिलने पर जब कॉलेज के प्रिंसिपल ने उन्हें अलग बुला कर परीक्षा ली, तो उन्होंने अकादमिक के सारे रिकार्ड तोड़ दिये. पटना साइंस कॉलेज में पढ़ाई के दौरान कैलिफोर्निया विश्वविद्यालय के प्रोफेसर जे कैली ने उनकी प्रतिभा को पहचाना और उन्हें अमरीका ले गये. वहीं, कैलिफोर्निया यूनिवर्सिटी से ही उन्होंने पीएचडी की डिग्री ली और वॉशिंगटन विश्वविद्यालय में एसोसिएट प्रोफेसर बन गये. नासा में भी काम किया. वहां भी उन्हें वतन की याद सताती रही. बाद में वह भारत लौट आये. उन्होंने आईआईटी कानपुर, आईआईटी बंबई और आईएसआई कोलकाता में नौकरी की.वर्ष 1973 में वंदना रानी सिंह से हुई. इसके करीब एक साल बाद वर्ष 1974 में उन्हें पहला दौरा पड़ा. इसके बाद उन्हें कई जगह इलाज कराया गया. जब उनकी तबीयत ठीक नहीं हुई, तो उन्हें 1976 में रांची में भर्ती कराया गया.उनके असामान्य व्यवहार के कारण उनकी पत्नी ने उनसे तलाक तक ले लिया. गरीब परिवार से आने और आर्थिक तंगी में जीवन व्यतीत करनेवाले वशिष्ठ पर साल 1987 में अपने गांव लौट आ गये. वह यहीं रहने लगे. करीब दो साल बाद वह साल 1989 में अचानक लापता हो गये. करीब चार साल बाद वर्ष 1993 में वह सारण के डोरीगंज में पाये गये थे.

About the author

Prakash Pandey

Add Comment

Click here to post a comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.