पॉलिटिकल खास

उत्तराखंड में धामी की धमक, पूर्व मुख्यमंत्री कोश्यारी के ओएसडी रह चुके पुष्कर बने राज्य के 11वें मुख्यमंत्री

उत्तराखंड में लगातार राजनीतिक उठापटक के बीच भाजपा विधायक दल ने पुष्कर सिंह धामी को मुख्यमंत्री के रूप में स्वीकार कर लिया. पुष्कर सिंह धामी को चुनौती भरे चुनावी माहौल में मुख्यमंत्री का ताज पहनाया गया है. शुक्रवार की देर शाम तीरथ सिंह रावत के इस्तीफे के बाद शनिवार को दोपहर बाद आयोजित विधायक दल की बैठक में धामी को विधायक दल का नेता चुना गया और सूबे के नए सीएम के तौर पर उनके नाम पर मुहर लगाई गई. उनके नाम का प्रस्ताव भी तीरथ सिंह रावत ने रखा था जिस पर सभी ने सहमति जताई.

कुमायूं क्षेत्र का सबसे बड़ा नाम हैं धामी

कुमायूं क्षेत्र के सबसे बड़े राजपूत चेहरा का तौर पर अपनी पहचान बनाने वाले पुष्कर सिंह धामी कम बोलने वाले लेकिन विवादित बयान देने वाले के तौर पर भी जाने जाते हैं. खटीमा विधानसभा क्षेत्र से भाजपा के टिकट पर दो बार जीत दर्ज करा चुके धामी भारतीय जनता युवा मोर्चा (भाजयुमो) के प्रदेश अध्यक्ष के तौर पर भी अपनी जिम्मेदारी निभाई है. धामी को राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ (आरएसएस) के करीबी नेताओं में से एक माना जाता है. वे राज्य के अन्य मुख्यमंत्रियों के मुकाबले कहीं अधिक युवा और ऊर्जावान हैं.

कई बड़े नेताओं के बीच मेरी बाज़ी

हालांकि, उत्तराखंड के पूर्व मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत के इस्तीफे के बाद शनिवार को होने वाली विधायक दल की बैठक के पहले यह कयास लगाया जा रहा था कि राज्य के नए मुख्यमंत्री के तौर पर प्रदेश भाजपा इकाई के पूर्व अध्यक्ष बिशन सिंह चुफाल या पूर्व मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत में से कोई एक उत्तराखंड का नया मुख्यमंत्री हो सकता है. विधायक दल की बैठक में शामिल निर्वाचित सदस्यों ने पुष्कर सिंह धामी के नाम पर अपनी मुहर लगाई.

धामी के लिए चुनौती

पुष्कर सिंह धामी के लिए राज्य के मुख्यमंत्री का यह ताज चुनौतियों से भरा हुआ है. इसका कारण यह है कि अगले साल मार्च-अप्रैल में होने वाले उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव के साथ ही उत्तराखंड में भी इलेक्शन कराया जाएगा. ऐसी स्थिति में भाजपा आलाकमान यहां के मुख्यमंत्री के तौर पर उन्हीं लोगों को जिम्मेदारी सौंप रही है, जो आगामी विधानसभा चुनाव में राज्य के राजनीतिक और जातीय समीकरण में फिट बैठता हो या इन दोनों समीकरणों को साधने में सफलता हासिल करे.

सबसे कम उम्र के 11वें सीएम

सबसे बड़ी बात यह है कि पुष्कर सिंह धामी उत्तराखंड में अब तक के सबसे कम उम्र के मुख्यमंत्री होंगे. जानकारी के अनुसार, खटीमा विधानसभा क्षेत्र से दो बार चुनाव जीतने वाले धामी की उम्र 45 साल के युवा हैं और वे सूबे के 11वें मुख्यमंत्री के तौर पर पद और गोपनीयता की शपथ लेंगे.

पीएम मोदी को धन्यवाद

धामी ने कहा कि वह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सहित अपने पूरे केंद्रीय नेतृत्व का आभार व्यक्त करते हैं कि उन्होंने इस जिम्मेदारी के लिए उन पर भरोसा किया. उन्होंने कहा कि वह पिथौरागढ़ के सीमांत क्षेत्र कनालीछीना में एक पूर्व सैनिक के घर में पैदा हुए, लेकिन खटीमा उनकी कर्मभूमि है. वर्ष 2022 में होने वाले विधानसभा चुनावों के बारे में पूछे जाने पर उन्होंने कहा कि सभी के सहयोग से वह न केवल हर चुनौती को पार करेंगे, बल्कि अपने पूर्ववर्तियों द्वारा किए गए कार्यों को आगे बढाएंगे. उन्होंने कहा कि उनकी प्राथमिकता जनता की सेवा है जिसके लिए वह पूरे मन से काम करेंगे.

रह चुके हैं कोश्यारी के ओएसडी

उत्तराखंड के नए मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी उत्तराखंड के ऊधम सिंह नगर जिले की खटीमा सीट से लगातार 2 बार के विधायक हैं. अब उनके नाम एक नया रिकॉर्ड जुड़ने जा रहा है. पुष्कर सिंह धामी उत्तराखंड में सबसे कम उम्र के मुख्यमंत्री होंगे. 45 साल की उम्र में वह राज्य की बागडोर संभालेंगे. पुष्कर धामी को उत्तराखंड के पूर्व मुख्यमंत्री और महाराष्ट्र के गवर्नर भगत सिंह कोश्यारी का करीबी माना जाता है. जब भगत सिंह कोश्यारी मुख्यमंत्री थे, तो पुष्कर धामी उनके ओएसडी हुआ करते थे. पुष्कर धामी अभी तक कभी भी किसी कैबिनेट मंत्री या राज्यमंत्री के पद पर नहीं रहे हैं. इसके अलावा, सरकार चलाने का भी कोई अनुभव उनके पास नहीं है. पुष्कर धामी उत्तराखंड के कुमाऊं मंडल से आते हैं और राजपूत जाति से ताल्लुक रखते हैं.

About the author

Prakash Pandey

Add Comment

Click here to post a comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Follow us @ social media

Follow us @ Facebook

विविध