टॉप न्यूज़

DELHI VIOLENCE: दिल्ली के दंगे केवल अमित शाह ही रोक सकते हैं, इमाम ने कही बड़ी बात

नई दिल्ली. दिल्ली हिंसा से नाराज इमाम ऑफ इंडिया जामा मस्जिद के शाही इमाम और फतेहपुरी मस्जिद के इमाम में कड़ी प्रतिक्रिया दी है तीनों ही मामू ने एक सुर में तत्काल प्रभाव से दंगे रोकने की अपील सरकार से की है सभी ने दंगे और नफरत की मानसिकता को गलत करार दिया है.
भारत के प्रमुख इमाम उमैर अहमद इलियासी ने कहा, “हमारे घर पर मेहमान अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप आए हुए हैं. हम माहौल को अच्छा बनाने की बजाय खराब कर रहे हैं. इसका मुझे बहुत दुख है”. उन्होंने कहा कि हमारे धर्म, जाति, पंथ, इबादत करने के तरीके अलग हो सकते हैं, लेकिन सबसे बड़ा धर्म इंसानियत है. पूर्वी दिल्ली के इलाकों में जो लोग ऐसा कर रहे हैैं, उससे देश की छवि खराब हो रही है. लोगों को प्रोटेस्ट करने का अधिकार है, लेकिन इससे किसी दूसरे को परेशानी हो ये अधिकार किसी को नहीं है.

चीफ़ ऑफ इमाम ने सोमवार शाम को जाफराबाद, सीलमपुर, कर्दमपुरी, फतेहपुरी, जामा मस्जिद समेत अन्य मस्जिदों के इमामों से बातचीत कर शांति की अपील करने को कहा है. इसके बाद इमामों ने शाम की नमाज में लोगों से शांति की अपील की है. मंगलवार सुबह की नमाज में भी शांति की अपील करने काे कहा गया है.
चीफ़ इमाम ने कहा,” सभी धर्माें के लोगों से अपील कर रहे हैं कि मसला संवाद से हल होगा.” हिंसा करने से नुकसान होगा. उन्होंने बताया कि इस मामले पर उनका एक डेलिगेशन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी व गृहमंत्री अमित शाह से मिलेगा और चर्चा करेगा.
वहीं जामा मस्जिद के शाही इमाम अहमद बुखारी ने भी हिंसा को गलत बताया और कहा, “प्रशासन आगजनी व पत्थरबाजी की घटनाओं को तुरंत रोके”. बुखारी ने कहा कि सबसे पहले जाफराबाद, सीलमपुर, मौजपुर, गोकुलपुरी, भजनपुरा समेत अन्य इलाकों में हो रही हिंसक घटनाओं को तुरंत रोके. केंद्र सरकार व पुलिस तुरंत एक्शन लेकर घटनाओं को काबू करें. इसके बाद एक कमेटी बनाई जानी चाहिए, जिसमें वकील, पत्रकार, हिंदू-मुृस्लिम के जिम्मेदार लोग केंद्र सरकार से मिलकर उसका हल निकालें. बुखारी ने पूर्वी दिल्ली में हो रही घटनाओं में दोनों पक्षों के नुकसान की बात कहते हुए अपील की है कि है कि मानवता, इंसानियत व सद्भाव के आधार पर शांति बनाए रखने में सबको सहयोग करना चाहिए.
वहीं फतेहपुरी मस्जिद के इमाम मुकर्रम ने कहा है कि केवल अमित शाह ही दंगे रुकवा सकते हैं. उन्होंने कहा कि हम शांति, सद्भाव बनाने के लिए रोज अपील कर रहे हैं. लेकिन हमारी अपील केवल हमारी कैमन्युटी के लोग ही मानेंगे, दंगाई हमारी बात नही मानेंगे. उन्होंने जोर देते हुए कहा कि जब से इलेक्शन शुरू हुआ था तब से वे लोग भड़काऊ बातें कर रहे थे.अब वो हार गए हैं, अपना मुंह बनाकर वो दंगे करवा रहे हैं. ये लोग हमारी अपील कहां सुनने वाले हैं. उन्होंने दिल्ली पुलिस पर मिले होने का आरोप लगाते हुए कहा कि पुलिस कुछ कर नहीं रही है.

About the author

Prakash Pandey

Add Comment

Click here to post a comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Follow us @ social media

Follow us @ Facebook

विविध