एक्सक्लूसिव

COVID-19 APP की मदद से कोरोना सर्विलांस टीम ने खोजे दो जमाती, जानिए कैसे करता है काम

अभी भी सामने आने से कतरा रहे जमाती अब मानकमऊ में मिला निजामुद्दीन मरकज से लौटा जमाती

SANKALP NEB
सहारनपुर/ उत्तर प्रदेश. कोविड 19 एप के जरिए कोरोना संक्रमण के संभावित लोगों को खोजना आसान हो गया है. इस एप के जरिए कोरोना सर्विलांस टीम ऐसे लोगों का पता लगा पा रही है जो बाहर से आये हैं या जिनमें कोरोना के लक्षण पाए जा रहे हैं. शुक्रवार को एप की मदद से दो जमातियों की पहचान की गई और उन्हें quarentine किया गया.
दरसअल, काफी संख्या में तब्लीगी जमातियों को क्वारंटाइन कराने के बाद भी काफी जमातियों के अपने घरों तथा अन्य स्थानों पर रुके होने की जानकारी कोरोना सर्विलांस टीम को मिल रही है. शुक्रवार को भी टीम ने मानकमऊ से निजामुद्दीन मरकज से लौटे एक जमाती को तलाश कर क्वारंटाइन के लिए भिजवाया.
जिला प्रशासन पूर्व में ही चेतावनी दे चुका था कि निजामुद्दीन मरकज से लौटे जमाती स्वयं अपनी जानकारी दे दे, ताकि उनके स्वास्थ्य की जांच कराई जा सके. अन्यथा ऐसे लोगों के खिलाफ नियमानुसार कार्रवाई की जाएगी. बावजूद इसके अभी भी जमाती सामने आने से कतरा रहे हैं.
इसका खुलासा कोरोना सर्विलांस टीम द्वारा कोविड-19 एप के जरिए किए जा रहे सर्वे में हो रहा है. टीम ने गुरुवार को तब्लीगी जमात से लौटकर कुतुबशेर थानांतर्गत 62 फुटा रोड चांद कालोनी में घर में रह रहे एक जमाती को तलाश कर क्वारंटाइन के लिए भिजवाया था.
इसी कड़ी में सर्विलांस टीम ने शुक्रवार को एप की मदद से गंगोह रोड स्थित मानकमऊ में रह रहे एक और 60 वर्षीय जमाती को ढूंढ निकाला. टीम के मुताबिक शुरुआत में वो इधर उधर की बात बताया रहा. बार-बार पूछने पर उसने बताया कि वो 21 मार्च को सहारनपुर आया था और इससे पूर्व वो निजामुद्दीन मरकज में ही था.कोरोना सर्विल्लन्स टीम के सदस्य एम पी सिंह चावला , नितिन यादव , पर्वेन्द्र यादव , विक्रांत यादव , शिल्पा मिश्रा , तरुण यादव ने ऐप्प पर प्राप्त सूची के आधार पर कुतुबशेर थाना क्षेत्र के मानक मऊ से इस 60 वर्षीय जमाती को खोज निकाला. कोरोना टीम लीडर डॉ एम पी सिंह चावला ने जिला कोरोना अधिकारी डॉ ओ पी गुप्ता से वार्ता की जिसके बाद उसे तुरंत108 एम्बुलेंस के जरिए सरस्वती विहार quarentine हेतू भेज दिया गया.

कैसे काम करता है कोविड-19 ऐप

आरोग्‍य सेतु ऐप इंस्‍टॉल करने पर सबसे पहले यह ब्‍लूटूथ और लोकेशन ट्रैकर को ऑन करने को कहता है.इसके बाद मोबाइल नंबर समेत कुछ अन्‍य डीटेल्‍स मांगता है. फिर यह आपकी डीटेल्‍स और लोकेशन का सरकार के डेटाबेस से मिलान करके आपके लिए कोरोना के रिस्‍क लेवल बताता है. साथ ही कोरोना से सेफ रहने के लिए यह ऐप आपको तमाम तरह के जरूरी सुझाव भी देता है. इस ऐप में दी गई जानकारी के मुताबिक, आरोग्य सेतु के साथ, आप स्वयं, अपने परिवार और दोस्तों की कोरोना से रक्षा कर सकते हैं और COVID -19 से लड़ने के प्रयास में अपने देश की मदद कर सकते हैं.

About the author

Prakash Pandey

Add Comment

Click here to post a comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Follow us @ social media

Follow us @ Facebook

विविध