COVID-19 Live Update

Global Total
Last update on:
Cases

Deaths

Recovered

Active

Cases Today

Deaths Today

Critical

Affected Countries

Total in India
Last update on:
Cases

Deaths

Recovered

Active

Cases Today

Deaths Today

Critical

Cases Per Million

बोल वचन खास

CM VISIT IN SAHARANPUR : मुख्यमंत्री के दौरे की सरकारी विज्ञप्ति, जानिए क्या कुछ कह गए सूबे के सरदार

डोर-टू-डोर सर्वे, काॅन्टेक्ट ट्रेसिंग और टेस्ट की संख्या को बढ़ाया जाए: मुख्यमंत्री

सहारनपुर में आरटीपीसीआर लैब को शीघ्र संचालित किया जाए पुलिस पेट्रोलिंग व्यवस्था को और अधिक चुस्त-दुरूस्त बनायें- योगी आदित्यनाथ

सहारनपुर/ उत्तर प्रदेश. पूर्व निर्धारित घोषणा के मुताबिक सूबे के सरदार योगी आदित्यनाथ आज 1:30 बजे पुलिस लाइन पहुंचे. उसके बाद सर्किट हाउस पहुंचे जहां उन्होंने मंडलीय समीक्षा बैठक और कोरोना की जमीनी हकीकत को अधिकारियों के जरिए जानने की कोशिश की और अंत में जाते जाते पिलखनी स्थित राजकीय मेडिकल कॉलेज का कुछ क्षणों के लिए निरीक्षण किया. पूरे कार्यक्रम के दौरान मुख्यमंत्री ने मीडिया से दूरी बनाकर रखी. सभागार कक्ष में मुख्यमंत्री और अधिकारियों के बीच क्या चर्चा हुई. मुख्यमंत्री ने अधिकारियों से किन विषयों पर जानकारी ली और उसपर क्या निर्देश दिए? इसकी जानकारी के लिए सूचना विभाग द्वारा जारी प्रेस रिलीज को ही आधार माना जा सकता है. आज मुख्यमंत्री के दौरे को लेकर सरकारी अमले ने जो विज्ञप्ति जारी की है वह इस प्रकार है…

“उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने अधिकारियों को निर्देश दिए है कि मण्डल के जनपदों में एल-2 व एल-3 अस्पतालों का निर्माण शीघ्र कराया जाए. उन्होंने कहा कि आर.टी.पी.सी.आर जांच की लैब का मण्डल मुख्यालय पर यथाशीध्र निर्माण कराया जाए जिससे आगामी दिनों में कोरोना वायरस संक्रमण की स्थानीय स्तर पर जांच हो सकें. उन्होंने कहा कि डोर-टू-डोर सर्वे, काॅन्टेक्ट ट्रेसिंग और टैस्ट की संख्या को बढ़ाया जाए. उन्होंने कहा कि कोरोना को मात देन केे लिए एक जुट होकर इसका मुकाबला करने की जरूरत है. उन्होंने कहा कि कोविड-19 के मरीजों को तत्काल उपचार के लिए अलग से एम्बुलेंस रखने के निर्देश दिए. उन्होंने पुलिस अधिकारियों को निर्देश दिए कि कानून व्यवस्था की स्थिति को मजबूत करने के लिए अब पुलिस पेट्रोलिंग व्यवस्था को और अधिक चुस्त-दुरूस्त बनाया जाए. उन्होंने कहा कि अपराधियों को बख्शा नहीं जाए और किसी भी आम आदमी को बेवजह परेशान न किया जाए.
माननीय मुख्यमंत्री आज यहां सर्किट हाउस में मण्डलीय कोविड-19 के सम्बन्ध में सहारनपुर मण्डल में किये गये चिकित्सा उपायों एवं प्रशासनिक कार्यों की समीक्षा कर रहे थे. उन्होंने कहा कि एल-1 अस्पतालों के जगह यथाशीध्र एल-2 व एल-3 अस्पतालों का एस.जी.पी.जी.आई, के.जी.एम.यू व राम मनोहर लोहिया संस्थान के चिकित्सकों से समन्वय स्थापित कर मण्डल में एल-3 अस्पतालों का निर्माण कराया जाए. उन्होंने यह भी निर्देश दिए कि एल-2 अस्पतालों में समुचित मात्रा में आक्सीजन तथा वेंटीलेटर क्रियाशील स्थिति में रहेे. एल-3 अस्पतालों में आई.सी.यू. में बैड की पर्याप्त संख्या रखी जाए. समुचित व्यवस्थाओं के साथ ही डायलिसिस मशीनों की भी व्यवस्था रखी जाए. उन्होंने कहा कि कोविड-19 संक्रमण की तीव्रता अधिक है इसका लक्षण के आधार पर उपचार होना आवश्यक है. उन्होंने कहा कि हर जनपद में काॅमन कंट्रोल सेंटर खोले जाए.
मुख्यमंत्री जी ने मण्डल के तीनों जनपदों के सीएमाओ से एम्बुलेंस की उपलब्धता की जानकारी के दौरान निर्देश दिए कि कोविड और नाॅन कोविड एम्बुलेंस अलग-अलग होनी चाहिए. उन्होंने कहा कि कुल एम्बुलेंस की आधी एम्बुलेंस का उपयोग कोविड-19 के मरीजों के लिए होना चाहिए. 108 व अन्य एम्बुलेंस में प्रशिक्षित तकनीशियन होने चाहिए. आक्सीजन की हर समय उपलब्धता होनी चाहिए. उन्होंने कहा कि आने वाले समय में हमें कोविड-19 संक्रमण के साथ संचारी रोगों से भी लड़ना है. इसके लिए स्थानीय स्तर पर आई.एम.ए. व नर्सिंग होमों से समन्वय स्थापित कर सहयोग लेना चाहिए. उन्होंने कहा कि कोविड-19 के अस्पतालों की साफ-सफाई पर समुचित ध्यान रखा जाना चाहिए. मरीजों की बेड शीट प्रतिदिन बदलवाई जाए। मनोरंजन के लिए एक टी.वी. व समाचार पत्रों की भी व्यवस्था की जाए. उन्होंने कहा कि हमार ध्येय होना चाहिए कि कोई भी मरीज बिना ईलाज के न रहने पाये. उन्होंने यह भी निर्देश दिए कि कोविड-19 अस्पतालों में वरिष्ठ चिकित्सक भी प्रतिदिन भ्रमण करें. उन्होंने कहा कि मरीजों के हालचाल के सम्बन्ध में प्रतिदिन उनके परिजनों को स्वास्थ्य की जानकारी उपलब्ध कराई जाए. उन्होंने डीएम को निर्देश दिए कि कोविड-19 वार्ड में सीसीटीवी कैमरे लगाये जाये.
मुख्यमंत्री जी ने स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों को निर्देश दिए कि कोविड-19 से लड़ने के लिए सीएमओ, एसीएमओ तथा डिप्टी सीएमओ के बीच काम का वितरण कर, उन्हें अलग-अलग जिम्मेदारी सौंपी जाए. मरीजों के सम्बन्ध में पूरी जानकारी इनके पास उपलब्ध होनी चाहिए. उन्होंने कहा कि हर कोविड-19 मरीज के केस हिस्ट्री की भी जानकारी इनके पास होनी चाहिए. उन्होंने कहा कि होम आइसोलेशन वाले मरीजों से प्रतिदिन उनके स्वास्थ्य की जानकारी ली जाए. ऐसे मरीजों को पल्स आक्सीमीटर भी रखने की सलाह के साथ ही प्रतिदिन का विवरण भी अंकित किया जाए. उन्होंने कहा कि कोविड मरीजांे की मौत होने पर परिजनों द्वारा शव न लिये जाने की स्थिति में जिलाधिकारी के माध्यम से ऐसे शव का पूरे उनके मजहब को ध्यान में रखते हुए अंतिम संस्कार कराया जाए. इसके लिए समुचित धन की व्यवस्था की गयी है. उन्होंने यह भी निर्देश दिए कि कोविड-19 के सम्बन्ध में अपने-अपने जनपदांे में बचाव के व्यापक प्रचार-प्रसार कराया जाए. रोग के बारे में जानकारी व बचाव की भी जानकारी आम जनता को उपलब्ध कराई जाए.
मुख्यमंत्री जी ने पुलिस अधिकारियों को निर्देश दिए कि अपराधियों को उनके सही स्थान पर पहुंचाये. उन्होंने कहा कि पुलिस पेट्रोलिंग में तेजी लाये तथा कहीं पर भी अपराध न होने दें. उन्होंने कहा कि किसी भी काॅमन मेन को अनावश्यक परेशान न किया जाए. उन्होंने यह भी निर्देश दिए कि मास्क न लगाने वालों पर जुर्माना किया जाए किसी प्रकार की अभर्द्रता न की जाए. उन्होंने कहा कि कन्टेमेंट जोन के क्षेत्र को छोटा 100 मीटर के दायरे में लाया जाए. ऐसे स्थानों पर अब पुलिस के स्थान पर होमगार्डस, पीआरडी, एनसीसी तथा सिविल डिफेंस के कर्मियों की ड्यूटी लगाई जाए. पुलिस अब कानून व्यवस्था को चुस्त-दुरूस्त करने का काम करेगी.इस कार्य में किसी भी स्तर पर लापरवाही बर्दाशत नहीं होगी. उन्होंने कहा कि पुलिस अपराधियों को पकड़ने के लिए दबिश देते समय हाथ के दस्ताने व माॅस्क का प्रयोग आवश्यक रूप से करें. उन्होंने कहा कि इस वैश्विक महामारी के समय हमें पुलिस व अपने कोरोना वाॅरियर को बचा कर रखना है.
मुख्यमंत्री जी ने शनिवार व रविवार को संचारी रोगों से लड़ने के लिए विशेष सफाई अभियान को पूरी गति से चलाये जाने के निर्देश दिए. ग्रामीणों को संचारी रोगों से जानकारी देने के साथ ही शुद्ध पेयजल के सम्बन्ध में भी जानकारी दी जाए. उन्होंने कहा की खाद्यान्न वितरण में पारदर्शिता बरती जाए तथा वितरण में जनप्रतिनिधियों की भी मदद ली जाए.
इस अवसर पर कृषि मंत्री एवं जनपद के प्रभारी मंत्री सूर्य प्रताप शाही, गन्ना विकास एवं चीनी उद्योग मंत्री सुरेश राणा, विधायक देवेन्द्र कुमार निम, कुवंर ब्रजेश सिंह, कीरत सिंह, नगर निगम मेयर संजीव वालिया, नोडल अधिकारी एवं प्रमुख सचिव उद्यान बी.एल.मीणा, मण्डलायुक्त संजय कुमार, पुलिस उपमहानिरीक्षक उपेन्द्र कुमार अग्रवाल, जिलाधिकारी सहारनपुर अखिलेश सिंह, मुजफ्फरनगर सैल्वा कुमारी जे., शामली की जसजीत कौर, वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक डॉ. एस.चेनप्पा सहित स्वास्थ्य विभाग के वरिष्ठ अधिकारी मौजूद थे.”

About the author

Prakash Pandey

Add Comment

Click here to post a comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.