COVID-19 Live Update

Global Total
Last update on:
Cases

Deaths

Recovered

Active

Cases Today

Deaths Today

Critical

Affected Countries

Total in India
Last update on:
Cases

Deaths

Recovered

Active

Cases Today

Deaths Today

Critical

Cases Per Million

टॉप न्यूज़

Big News: ऐतिहासिक नगरी से पुलिस को चुनौती, कार्रवाई के बाद राजनीति हुई तेज़

देवबंद में लाॅक डाउन का पालन कराने गई पुलिस पर हुए पथराव और मारपीट में चार पुलिसकर्मी हुए घायल,  40-50 अज्ञात के खिलाफ रिर्पोट दर्ज, विपक्षी दलो के प्रतिनिधि मंडल ने एसएसपी से भेंट की, भाजपा और हिंदू नेताओं की हमलावरो पर की रासुका लगाने की मांग

 देवबंद (गौरव सिंघल)। बीती रात संवेदनशील नगर देवबंद के मोहल्ला पठानपुरा में लाॅक डाउन का पालन कराने गई पुलिस पर पथराव एवं उनसे मारपीट की गई। जिसमें चार पुलिसकर्मी घायल हो गए है। सूत्रो से मिली जानकारी के अनुसार उक्त मोहल्ले में बेवजह घूम रहे कुछ लोगो ने लाॅक-डाउन पालन कराने गई पुलिस के साथ पहले बहस और बदतमीजी की और फिर पुलिसकमिर्यो पर पथराव कर दिया। जिसमें एक होमगार्ड समेत तीन पुलिसकर्मी घायल हो गए। सहायता के लिए मौके पर पहुंचे पुलिसकर्मियों पर भी आक्रोशित लोगों ने पथराव किया। एसएसपी सहारनपुर दिनेश कुमार प्रभु ने इस मामले में हमलावरो के खिलाफ कडी कार्रवाई किए जाने की बात कही है। 

उधर तमाम विपक्षी दलो के सांसद, विधायको और अन्य नेताओं ने पुलिस पर बबर्रता करने के गंभीर आरोप लगाए है। देवबंद डाक बंगले पर शुक्रवार दोपहर एसडीएम देवेंद्र पांडेे ने पुलिस अधिकारियों और जनप्रतिनिधियों के साथ बैठक कर स्थिति को सामान्य बनाने और सभी से कानून का पालन करने को लेकर बैठक की है। बैठक में बसपा सांसद फजलुर्रहमान, सीओ देवबंद चौब सिंह, थाना प्रभारी यज्ञदत्त शर्मा और पालिका के सभासदगण, व्यापार मंडल अध्यक्ष मनोज सिंघल आदि मौजूद रहे।

मामले पर क्या बोले कप्तान

जनपद के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक दिनेश प्रभु ने देवबंद में बीती रात हुई इस घटना की निंदा की और पुलिस के साथ अभद्रता और मारपीट करने वालो के खिलाफ कठोर कार्रवाई किए जाने की बात भी कही।सभासद मजाहिर हसन अंसारी उर्फ भोला, उसके दो पुत्रों जावेद अंसारी, आरिफ अंसारी के खिलाफ नामजद और 40-50 हमलावरो के खिलाफ अज्ञात मे रेलवे चौकी प्रभारी रोबिन राठी ने देवबंद कोतवाली में आईपीसी की धारा 147, 148 149, 323, 504 और 51 आपदा अधिनियम एवं तीन महामारी अधिनियम के तहत मुकदमा दर्ज कराया है। पुलिस के द्वारा एक उपद्रवी को गिरफ्तार कर थाने लाए जाने की खबरे भी पूरे दिन चर्चा में रही। लेकिन इसकी पुष्टि नही हो सकी।

क्या था मामला

जानकारी के अनुसार होमगार्ड विकास कुमार और कांस्टेबल दीपक चौधरी बाइक से मोहल्ला पठानपुरा में बीती रात गश्त के लिए निकले थे। जहां उन्होंने लाकॅ डाउन का उल्लंघन करने वाले युवको को टोका और घरो में जाने को कहा। वहां के लोगों ने इन पुलिसकर्मियों के साथ दुव्र्यवहार और मारपीट की। लोगो द्वारा पुलिसकर्मियो की बाइक भी छीन लेने की खबर है। सूचना मिलने पर कोतवाली प्रभारी की अगुवाई में पुलिस दल मौके पर गया और भीड के कब्जे से दोनो पुलिसकर्मियों को छुडाया। उस दौरान पुलिस की कार्रवाई का मोहल्ले के लोगो ने विरोध किया। लोगो द्वारा पुलिस पर पथराव किए जाने की बात भी सामने आई है। 

राजनीति हुई तेज़

बसपा सांसद फजर्लुरहमान, सपा विधायक संजय गर्ग, पूर्व विधायक शशि बाला पुंडीर, जिला पंचायत अध्यक्ष के पति माजिद अली, बसपा जिलाध्यक्ष योगेश कुमार, सपा अध्यक्ष आजम शाह, सपा नेता एवं पूर्व दर्जा प्राप्त राज्यमंत्री सरफराज खान आदि विपक्षी दलो के नेताओं ने एसएसपी दिनेश प्रभु से मिलकर देवबंद पुलिस पर वहां घरो में घुसकर मारपीट करने और अमानवीय बर्ताव करने के गंभीर आरोप लगाए है। एसएसपी ने विपक्षी दलो के नेताओं को भरोसा दिया कि वह पूरे मामले की निष्पक्ष जांच कराकर न्यायोचित कार्रवाई कराएंगे।

एसडीएम देवबंद ने किया आश्चर्यजनक खुलासा

देवबंद डाकबंगले पर इसी मामले को लेकर हुई बैठक में स्थिति को सामान्य बनाने और लाॅक-डाउन का पालन करने पर विचार हुआ। एसडीएम देवेंद्र पांडेे ने बताया कि ड्रोन कैमरे से ली गई तस्वीरो से पता चला है कि पठानपुरा क्षेत्र के काफी लोगों के घरो पर ईट-पत्थर रखे है। उन्होंने लोगों से अपील की कि वह अपनी-अपनी छतो से ईट-पत्थर हटाए और डयूटी पर तैनात सरकारी कर्मचारियों के साथ सभी लोग ठीक से पेश आए। देवबंद भाजपा विधायक ब्रिजेश सिंह रावत, भाजपा नगराध्यक्ष विपिन गर्ग और बजरंग दल के प्रांत संयोजक विकास त्यागी ने पुलिस पर किए गए हमले की कठोर शब्दो में निंदा की और विपक्षी दलो पर लोगो को गुमराह करने का आरोप लगाया। विकास त्यागी ने जिलाधिकारी अखिलेश सिंह से उपद्रवियों पर रासुका के तहत कार्रवाई किए जाने की मांग की। कांग्रेस नेता इमरान मसूद ने घटना की कडे़ शब्दों में निंदा की और  कहा कि हम लोग पुलिस-प्रशासन को भरपूर सहयोग दे रहे है। पुलिस को कोरोना के खिलाफ जारी इस जंग में बीमारी के अलावा किसी समुदाय को निशाना नहीं बनाना चाहिए। पुलिस लोगो के साथ लाठी-ंडंडे से पेश न आए और संयम से काम ले।   

About the author

Prakash Pandey

Add Comment

Click here to post a comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.